Bank Dcardfee Kya Hota Hai, Meaning, Full Form

आज के समय में हर बैंक अपने कस्टमर के लिए बहुत सारी सर्विसेज प्रोवाइड करता है. जिसमें डेबिट और क्रेडिट कार्ड मौजूद है, हर बैंक अपने सर्विसेज के लिए चार्ज करता है, खास करके डेबिट और क्रेडिट कार्ड से जुड़े चार्जेज होते हैं. अगर आप DCardFee के बारे में जानना चाहते हैं तो सही जगह आए हैं. आज हम DCardFee क्या होता है, कौन सा बैंक DCardFee लेता है और DCardFee क्यों काटा जाता है. इन सारे सवालों का जवाब देंगे.

अगर आपने पहली बार कार्ड का इस्तेमाल करना शुरू किया है और आपके बैंक अकाउंट से DCardFee के नाम पर पैसे काटे जा रहे हैं, तो आपको जानना जरूरी है DCardFee कब और क्यों काटा जाता है.

Dcardfee क्या होता है । Dcardfee Meaning in Hindi

डेबिट कार्ड और एटीएम कार्ड को इस्तेमाल करने पर जो फीस हर साल ली जाती है उसे Dcardfee कहा जाता है. Dcardfee का मतलब होता है ऐसी फीस जो बैंक हमारे खाते से काटता है, डेबिट/एटीएम कार्ड  इस्तेमाल करने पर. अगर आप डेबिट कार्ड को अप्लाई करते हैं और इस्तेमाल नहीं करते हैं तो भी डेबिट कार्ड एनुअल फी आपके बैंक अकाउंट से डिडक्ट कर ली जाती है. प्राइवेट और पब्लिक बैंक के लिए यह फीस अलग-अलग होती है.

उदाहरण के लिए: बैंक ऑफ़ बड़ौदा नार्मल डेबिट कार्ड के लिए ₹177 Dcardfee के तौर पर चार्ज करता है. इसी बैंक के दूसरे प्रीमियम कार्ड और प्लैटिनम कार्ड के लिए Dcardfee ₹295 होती है. आइसीआइसीआइ बैंक में आप नार्मल डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो ₹177 काटे जाते हैं और इसी बैंक के दूसरे प्रीमियम कार्ड के लिए ₹236 Dcardfee डिडक्ट कर ली जाती है.

यानी जब आप एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं विड्रोल, डिपॉजिट और दूसरी एटीएम सर्विसेज के लिए तो यह फीस आपसे लीजाती है. बैंक द्वारा है यह फीस टेक्नोलॉजी, मैनेजमेंट और इससे जुड़ी दूसरी फैसेलिटीज के लिए काटी जाती है.

हर साल या फीस काटी जाती है इसके अलावा दूसरी फीस भी हर महीना लगाई जा सकती है अगर आप मंथली लिमिट से ज्यादा एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो.

Dcardfee Full Form in Hindi?

आसान भाषा में Dcardfee का फुल फॉर्म होता है ‘डेबिट कार्ड फी’ (Debit Card Fee). डेबिट कार्ड को इस्तेमाल करने पर यह फी हर बैंक के द्वारा चार्ज की जाती है और यह फीस कितनी होगी यह आपके बैंक पर डिपेंड है. जब मेरी एसबीआई बैंक के डेबिट कार्ड से अचानक Dcardfee काट ली गई तो मुझे भी इसके बारे में पता नहीं था लेकिन अब मुझे पता है की बैंक हमें डेबिट कार्ड सर्विसेज प्रोवाइड करने के लिए हर साल यह फीस चार्ज करते है.

अलग-अलग प्रकार के Dcardfee?

एनुअल फीस: 

डेबिट कार्ड को हर साल एक्टिवेटेड रखने के लिए एनुअल फीस देनी पड़ती है. हर बैंक अपने डेबिट कार्ड इस्तेमाल करने वाले कस्टमर के बैंक अकाउंट से यह फीस काटता करता है, यह फीस कितनी होगी आपके बैंक, डेबिट कार्ड टाइप और इससे जुड़े फीचर्स पर डिपेंड करता है.

रिप्लेसमेंट कार्ड फीस: 

अगर आपका डेबिट कार्ड खराब हो जाता है, गुम जाता है, एक्सपायर हो जाता है या फिर चोरी हो जाता है तो आपको एक नए कार्ड की जरूरत पड़ती है, कार्ड रिप्लेसमेंट के लिए बैंक फीस चार्ज करते हैं.

एसएमएस अलर्ट फीस: 

डेबिट कार्ड ट्रांजैक्शंस से जुड़ी हर जानकारी को बताने के लिए बैंक अपने कस्टमर्स को एसएमएस के द्वारा जानकारी देता है, कुछ बैंक एसएमएस अलर्ट फीस भी लेते है.

बैंक फीस: 

एटीएम कार्ड को उपयोग करने पर हर बैंक एटीएम कार्ड यूजिंग फीस चार्ज करता है. यह फीस कितनी होगी यह आपके बैंक पर, आपके बैंक अकाउंट टाइप और आपका डेबिट कार्ड किस प्रकार का है इस पर भी डिपेंड है. इस फीस के साथ जीएसटी टैक्स भी लगता है.

ओवर लिमिट फीस: 

हर बैंक अपने एटीएम कार्ड के इस्तेमाल पर पहले से लिमिट निर्धारित करता है, यानी आप से ज्यादा कुछ बार ही फ्री विड्रोल कर सकते हैं एटीएम से हर महीना, जो लिमिट होती है उससे ज्यादा अगर आप विड्रोल करते हैं, तो लिमिट के बाद के हर ट्रांजैक्शन पर फिक्स्ड फीस चार्ज की जाती है.

नेटवर्क फीस:

अक्सर हम जब एटीएम का इस्तेमाल अपने बैंक के नेटवर्क के अलावा दूसरे नेटवर्क या सर्विस एरिया में करते हैं या फिर दूसरे बैंक के एटीएम का इस्तेमाल करते हैं तो चार्ज लगता हैं.

फॉरेन ट्रांजैक्शन फीस:

जब हम एटीएम कार्ड का इस्तेमाल देश के बाहर ट्रांजैक्शंस के लिए या विड्रोल के लिए करते हैं तो बैंक इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन फी चार्ज करते हैं.

ओवरड्राफ्ट फीस:

जब आप अपने बैंक में डिपॉजिट से ज्यादा पैसे विड्रॉ करते हैं तो यह फीस लगती है.

Dcardfee क्यूँ लिया जाता है?

डेबिट और क्रेडिट कार्ड से जुड़ी सर्विसेज को मेंटेन करने के लिए, एटीएम कार्ड की टेक्नोलॉजी को बेहतर बनाने के लिए और इससे जुड़ी सारी सर्विसेज को देने के लिए बैंक आपसे Dcardfee चार्ज करता है.

बैंक ऑफ़ बड़ोदा (BOB) में Dcardfee क्या होता है?

जैसे कि आपको पता होगा कि बैंक ऑफ़ बरोदा इंडिया का लीडिंग पब्लिक सेक्टर बैंक है, जो फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स और सर्विसेस प्रोवाइड करता है. बैंक ऑफ़ बड़ौदा  अपने कस्टमर के लिए बहुत सारे सर्विसेज देता है जिसमें डेबिट और क्रेडिट कार्ड शामिल है, जिससे जुड़े कई सारे फीस और चार्जेज होते हैं. 

बैंक ऑफ़ बड़ौदा में DCardFee का मतलब होता है ‘डेबिट कार्ड फी’ (Debit Card Fee). बैंक ऑफ़ बड़ौदा  अपने कस्टमर से यह फीस तब चार्ज करता है जब कस्टमर डेबिट कार्ड से जुड़े सर्विसेज का इस्तेमाल करते हैं.

इस फीस की वजह से बैंक को डेबिट कार्ड फैसेलिटीज प्रोवाइड करने में मदद मिलती है, जैसे टेक्नोलॉजी, मेंटेनेंस, कस्टमर सपोर्ट और दूसरी सर्विसेज. DCardFee लगभग हर बैंक द्वारा चार्ज किया जाता है यह कार्ड सर्विसेज को अवेलेबल रखने का और बेहतर बनाने का तरीका है.

बैंक ऑफ़ बड़ौदा डेबिट कार्ड DCardFee है ₹250 इसके साथ जीएसटी अलग से. बैंक ऑफ़ बड़ौदा DCardFee कितना होगा, यह बैंक के डेबिट कार्ड टाइप पर डिपेंड है.

AD
SBI Card Logo

SBI IRCTC Credit Card

Unlock Exclusive Benefits!

Apply Now & Get 350 Activation Bonus Points*

Apply Now

*Terms & conditions apply. Limited time offer.

BOB Dcardfee को मैनेज कैसे करें?

बैंक ऑफ़ बड़ौदा के DCardFee को मैनेज करने के लिए इन टिप्स को याद रखें:

● अपने लिए सही डेबिट कार्ड सेलेक्ट करें: आपको अपनी फाइनेंशियल जरूरत के हिसाब से डेबिट कार्ड को सेलेक्ट करना चाहिए. उदाहरण के लिए अगर आप देश के बाहर ज्यादा ट्रैवल करते हैं तो आपको ऐसे डेबिट कार्ड के लिए अप्लाई करना चाहिए जिसकी इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन फीस कम होती है.

● अपने अकाउंट स्टेटमेंट को लगातार देखते रहे: हर महीने अपने अकाउंट स्टेटमेंट को चेक करते रहे ताकि बिना वजह किसी भी तरह के DCardFee काटी जाए तो आपको पता चले. 

● बैंक ऑफ़ बड़ोदा के एटीएम का ही इस्तेमाल करें: बैंक ऑफ़ बड़ौदा के एटीएम का इस्तेमाल करके उस फीस को बचा सकते हैं जो फीस दूसरे बैंकों के एटीएम का इस्तेमाल करके देनी पड़ती है.

हर बैंक की Dcardfee क्या होती है?

1. एसबीआई Dcardfee कितनी होती है?

एसबीआई डेबिट कार्ड की DCardFee है ₹125 इसके साथ जीएसटी अलग से. SBI DCardFee कितना होगा डेबिट कार्ड टाइप पर डिपेंड है.

2. बैंक ऑफ़ बड़ोदा Dcardfee कितनी होती है?

बैंक ऑफ़ बड़ौदा डेबिट कार्ड DCardFee ₹250 इसके साथ जीएसटी अलग से. बैंक ऑफ़ बड़ौदा DCardFee कितना होगा, यह बैंक के डेबिट कार्ड टाइप पर डिपेंड है.

3. आईसीआईसीआई बैंक Dcardfee कितनी होती है?

आइसीआइसीआइ बैंक DCardFee ₹450 के करीब है इसके साथ जीएसटी टैक्स भी लगेगा. अलग-अलग आइसीआइसीआइ बैंक के डेबिट कार्ड के लिए अलग-अलग DCardFee होती है.

4. एचडीऍफ़सी बैंक Dcardfee कितनी होता है?

एचडीएफसी बैंक DCardFee ₹750 के करीब है और साथ में जीएसटी टैक्स. एचडीएफसी DCardFee कितना होगा यह डेबिट कार्ड टाइप पर निर्भर है.

5. पंजाब नेशनल बैंक Dcardfee कितनी होती है?

पंजाब नेशनलबैंक DCardFee लगभग ₹100 साथ में जीएसटी. 

6. एक्सिस बैंक Dcardfee कितनी होती है?

एक्सिस बैंक DCardFee ₹200 + जीएसटी. यह एक्सिस बैंक डेबिट कार्ड टाइप पर डिपेंड की उसका DCardFee कितना होगा.

सारांश?

आशा है अब आपको है पता चल गया होगा की DCardFee क्या होता है, DCardFee का फुल फॉर्म क्या है और देश के बड़े बैंकों में DCardFee कितनी काटी जाती है. 

जब भी आपके बैंक अकाउंट से राशि काटी जाए है तो आपको सबसे पहले उस ट्रांजैक्शन की डिटेल जाननी चाहिए, मोबाइल बैंकिंग या इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा स्टेटमेंट में जाकर उसकी जानकारी हासिल कर सकते हैं, वहां पर आपको पैसे क्यों काटे गए है इसका रीजन मिल सकता है. DCardFee से जुड़ा कोई सवाल हो तो कमेंट करें.

FAQ

1 साल में एटीएम का चार्ज कितना लगता है?

1 साल में आपके डेबिट कार्ड को इस्तेमाल करने पर DCardFee कितनी ली जाती है यह आपके बैंक पर और एटीएम कार्ड टाइप पर डिपेंड है. प्राइवेट और गवर्नमेंट बैंकों में DCardFee अलग-अलग होता है. अक्सर प्राइवेट बैंकों के मुकाबले सरकारी बैंकों में यह फीस कम होती है. 

बैंक ऑफ़ बड़ोदा Dcardfee ₹236 क्यूँ काटा जाता है?

जैसे हर बैंक एनुअल मेंटिनेस फी (AMC) चार्ज करता है उसी तरीके से बैंक ऑफ़ बड़ौदा भी एनुअल मेंटिनेस फीस अपने कस्टमर के बैंक अकाउंट से काटता है. बैंक ऑफ़ बरोदा एनुअल मेंटिनेस फीस ₹200 होता है और इसमें 18% जीएसटी मिला दे तो यह ₹236 होता है. इसलिए बैंक ऑफ़ बरोदा डेबिट कार्ड इस्तेमाल करने पर ₹236 एनुअल मेंटिनेस फीस के तौर पर हर साल काटता है.

बैंक ऑफ़ बड़ोदा Dcardfee ₹177 क्यूँ काटा जाता है?

एक नॉर्मल डेबिट कार्ड पर बैंक ऑफ़ बरोदा, DCardFee के तौर पर ₹177 प्लस जीएसटी चार्ज करता है.

डेबिट कार्ड एनुअल फी क्या होती है?

डेबिट कार्ड को हर साल एक्टिवेट (activated) रखने के लिए बैंक आपसे हर साल एनुअल मेंटिनेस फीस चार्ज करते हैं, ये फी हर बैंक के लिए अलग-अलग अमाउंट होता है. 

Dcardfee कितनी बार काटा जाता है?

साल में एक बार DCardFee बैंक के द्वारा चार्ज किया जाता है.

और भी पढ़े:

Rate this post

Leave a Comment