क्रेडिट और डेबिट का मतलब। Debit and Credit meaning in Hindi

ATM कार्ड क्या है और डेबिट और क्रेडिट में क्या अंतर है, डेबिट और क्रेडिट के फायदे और नुक्सान क्या हैं, क्रेडिट और डेबिट कार्ड के लिए सावधानियाँ, आदि। चलिए देखते हैं क्रेडिट और डेबिट का मतलब हिंदी में।

Table of contents

क्रेडिट और डेबिट का मतलब क्या है?

क्रेडिट यानी जमा करना और डेबिट यानी निकालना, बैंक और कस्टमर के लिए क्रेडिट और डेबिट का मतलब अलग है, कस्टमर्स के लिए जब अकाउंट में पैसे आते हैं तो क्रेडिट कहलाता है और जब पैसे निकालते हैं तो डेबिट कहलाता है।

उदाहरण: “Dear Customer, INR 1,000.00 credited to your A/c No xx2023 on 24/05/2024 through UPI.”

कुछ इस तरह का संदेश आता है, अगर आपके बैंक अकाउंट में पैसे आते हैं तो यानी क्रेडिट का मतलब है आपके बैंक में पैसे जमा होना और डेबिट का मतलब है आपके बैंक अकाउंट से पैसे निकाले जाना।

आसान भाषा में कहें तो, अगर आपके संदेश में रकम बताई गई है और ‘क्रेडिटेड’ या ‘क्रेडिट’ लिखा हुआ है तो इसका मतलब है कि आपके बैंक अकाउंट में पैसे किसी ने भेजे हैं, बैंक अकाउंट में उतने पैसे आए हैं।

अगर आपके बैंक अकाउंट ट्रांजैक्शन के संदेश में रकम के साथ ‘डेबिट’ या ‘डेबिटेड’ लिखा हुआ है, तो इसका मतलब है कि आपके अकाउंट से पैसे किसी और के पास चले गए हैं, आपके अकाउंट से पैसे निकाले गए हैं।

डेबिट और क्रेडिट में क्या अंतर है?

डेबिट और क्रेडिट में क्या अंतर है । Difference between credit card and debit card in hindi

क्रेडिट कार्डडेबिट कार्ड
पैसे बैंक से उधार लिए जाते है।पैसे आपके बैंक अकाउंट से जाते है अगर शौपिंग करते है या पैसे निकालते खर्च करते है।
रिवॉर्ड, ट्रेवल पॉइंट और डिस्काउंट मिलता है।आपके ऊपर कोई क़र्ज़ नहीं होता है और इंटरेस्ट देनी की ज़रूरत नहीं होगी।
जितने पैसे खर्च किये जायेंगे उतने अमाउंट पर इंटरेस्ट देना होगा और लेट होने पर फीस भि देनि होति है।फीस बहुत कम या नहीं देनी पड़ती।
जियादा खर्चा करने पर जियादा कर्जा होता है।जो भी खर्चा होता है वो आपको देना होता है आपको डेबिट कार्ड से क़र्ज़ नहीं मिलता।
आपका क्रेडिट स्कोर बनता है।कोई कर्जा नहीं होता कियोंके पैसा आपके होते है।

ATM Card kya hai?

ATM Card kya hai (What is ATM Card in Hindi)

ATM यानी ‘Automated Teller Machine’. ATM Card यानी ऐसा कार्ड जो PIN पर निर्भर करता है, जिसे ATM मशीन पर अलग-अलग सेवाएं का उपयोग करने के लिए किया जाता है। ATM कार्ड का उपयोग किसी भी चीज़ को खरीदने, किसी को पैसे भेजने, ATM से पैसे निकालने, आदि कार्यों के लिए किया जाता है।

ATM कार्ड को सिर्फ ATM मशीन में ही नहीं बल्कि ऑनलाइन बहुत सारे कामों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, जैसे इंटरनेट बैंकिंग रजिस्ट्रेशन और ऑथेंटिकेशन के लिए, ऑनलाइन कार्ड से पेमेंट करने के लिए, आदि।

Debit Card Kya Hai?

डेबिट कार्ड को बैंक के द्वारा दिया जाता है अगर आपके पास सेविंग अकाउंट या करंट अकाउंट है, बैंक अकाउंट से पैसे निकालने के लिए या पैसे भेजने के लिए डेबिट कार्ड का इस्तेमाल होता है, जो पैसे डेबिट होते हैं वे आपके पैसे होते हैं जो आपके सेविंग या करंट अकाउंट से निकाले जाते हैं।

इसका इस्तेमाल करके कोई भी आसानी से ATM से पैसे निकाल सकता है और किसी भी बिल को ऑनलाइन भर सकता है, कोई भी दुकान पर भी डेबिट कार्ड को swipe करके भुगतान कर सकता है। डेबिट कार्ड को आवेदन करने के लिए आपके पास कोई भी बैंक अकाउंट होना आवश्यक है, डेबिट कार्ड को ATM कार्ड भी कहा जाता है।

Credit and Debit Meaning in Hindi?

Credit and Debit Meaning in Hindi

बैंक अकाउंट में पैसे डेबिटेड का मतलब है पैसे बैंक अकाउंट से कट जाना, इसी तरह क्रेडिटेड का मतलब है बैंक अकाउंट में पैसे जमा होना। डेबिटेड की जगह कभी-कभी transferred और withdrawn जैसे शब्दों का भी इस्तेमाल होता है।

जैसे “RS.1000 transferred from A/C ….4786 to: UPI/0987654321”. इस तरह का संदेश आता है transferred के जगह debited और withdrawn जैसे शब्दों का भी उपयोग होता है। इन तीनों शब्दों का मतलब एक है कि आपके बैंक अकाउंट से पैसे काटे गए हैं।

क्रेडिट का मतलब हिंदी मे होता है?

जब कोई अपने बैंक में पैसे डालता है, तो उसे क्रेडिट करना या जमा करना कहते है। चाहे पैसे कोई और आपके अकाउंट में जमा करे या आप खुद अपने अकाउंट में पैसे जमा करे, अगर आपके बैंक अकाउंट में पैसे जमा होते हैं, तो उसे बैंक में पैसे क्रेडिट होना कहते है।

डेबिट क्या होता है?

डेबिट क्या होता है । Debited Meaning in Bank in hindi

बैंक में डेबिटेड का मतलब होता है जमा किए हुए पैसों का निकाला जाना। जब भी कोई आपके बैंक से पैसे निकालता है या आप अपने बैंक से दूसरों को पैसे भेजते हैं, तो वे पैसे डेबिट होना कहलाते हैं। बैंक अकाउंट में जमा हुए पैसों को निकालने पर डेबिट का मैसेज आता है। डेबिट का सिंपल मतलब है बैंक अकाउंट से पैसे काटना।

डेबिट कार्ड के फायदे?

● कर्ज से बचाना है – क्रेडिट कार्ड की जगह डेबिट कार्ड उपयोग करना सही है, क्योंकि डेबिट कार्ड का उपयोग करके आप किसी चीज़ पर खर्च नहीं करेंगे जिसकी कीमत ज्यादा हो और जिसकी आपको आवश्यकता नहीं है।

● पैसे निकालना आसान होता है – डेबिट कार्ड का सही से उपयोग करके आप आसानी से एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं और इसके साथ ही आप खुदरा स्टोर में जाकर कुछ भी खरीद सकते हैं।

● आपकी खर्च कोंट्रोल में रहती है – क्रेडिट कार्ड की तरह हर महीने सही समय पर पैसे चुकाने की चिंता नहीं होती, इंटरेस्ट देना होगा उसकी चिंता नहीं होती, डेबिट कार्ड से खर्च पर नियंत्रण बना रहता है।

क्रेडिट कार्ड क्या है?

Credit Card Kya Hai (What is Credit Card in Hindi)

क्रेडिट कार्ड की सुविधा भी डेबिट कार्ड की तरह होती है, लेकिन इसमें आपके पैसे नहीं खर्च होते, बल्कि आपको लोन के रूप में बैंक पैसे देता है। आपको हर महीने इसे समय पर और इंटरेस्ट के साथ वापस करना होता है। क्रेडिट कार्ड को इसलिए बनाया गया है क्योंकि यदि किसी को छोटी रकम बैंक से उधार लेना हो, तो उसे क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकता है।

लोन लेने के लिए हर बार दस्तावेज़ देना या बैंक जाने की ज़रूरत नहीं पड़ती, इसलिए क्रेडिट कार्ड होता है। क्रेडिट कार्ड से पैसों का इस्तेमाल करने पर आपको उस पर इंटरेस्ट भी देना होता है।

क्रेडिट कार्ड की लिमिट भी होती है, और यह लिमिट बैंक व्यक्ति के पैसे वापस करने की क्षमता को देखकर तय करता है। क्रेडिट कार्ड क्या है और कैसे काम करता है, यह जानने के बाद अब क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने के नुकसान को भी जानें।

क्रेडिट कार्ड के नुक्सान?

Cons of Credit Card- Banking मे क्रेडिट और डेबिट का मतलब क्या होता है जानें

1. Minimum Due Trap

क्रेडिट कार्ड का सबसे बड़ा नुकसान है Minimum Due amount यानि ऐसा अमाउंट जो क्रेडिट कार्ड होल्डर को भरना होता है। यह अमाउंट बिल स्टेटमेंट पर दिखाया जाता है, और कम से कम इस अमाउंट को भरना होगा क्रेडिट कार्ड फैसिलिटी को बरकरार रखने के लिए। अगर वक़्त से पहले इस अमाउंट को pay नहीं किया जाता, तो इसपर लेट फीस लगती है।

2. हाई इंटरेस्ट रेट

अगर समय से पहले पेमेंट नहीं की जाती, तो इंटरेस्ट देना होता है। क्रेडिट कार्ड इंटरेस्ट बहुत ज्यादा होते हैं, और इसका एवरेज इंटरेस्ट रेट 3% प्रति महीने है, जो कि 36% प्रति साल होता है।

3. हिडन चार्जेस

क्रेडिट कार्ड मैनेज करना या इस्तेमाल करना बाहर से लगता है कि आसान है, लेकिन क्रेडिट कार्ड के बहुत सारे hidden charges होते हैं, क्रेडिट कार्ड पर बहुत सारे taxes और फीस लगती हैं, जैसे लेट पेमेंट फीस, renewal fees, जॉइनिंग फीस, प्रोसेसिंग फीस, आदि। कार्ड पेमेंट मिस करने पर penalty लगती है और हर बार पेमेंट लेट करने पर credit limit भी लगती है, और इसका असर सीधे आपके credit score पर पड़ता है।

4. क्रेडिट कार्ड फ्रॉड

Fraud होना कॉमन नहीं है लेकिन हो सकता है, ये आपके साथ हो। क्रेडिट कार्ड से शॉपिंग करने के बाद अपने स्टेटमेंट को check करते रहें। अगर आपको ऐसा लगे कि आपने कुछ भी नहीं खरीदा फिर भी पैसे जा रहे हैं, तो हो सकता है कि आपके क्रेडिट कार्ड की जानकारी फ्रॉड के पास हो और वह इस्तेमाल कर रहा हो। ऐसा होने पर सबसे पहले बैंक जाएं, फ्रॉड साबित होने पर आपसे पैसे नहीं लिए जाएंगे।

5. Overuse

क्रेडिट कार्ड का overuse करना आसान है, क्रेडिट कार्ड की वजह से आप कभी इतना ज्यादा खर्चा करते हैं जिससे आप बाद में पछताते हैं, बिना ज़रूरत के ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए ज्यादा खर्चा करते हैं। इतना कर्जा हो जाता है कि उसे वापस करना मुश्किल हो जाता है, जिससे आप depressed हो सकते हैं।

ये थे क्रेडिट कार्ड के नुकसान। क्रेडिट को कस्टमर के फायदों के लिए नहीं बल्कि बैंक के फायदों के लिए बनाया गया है, इसलिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने से जितना हो सके उतना बचें।

क्रेडिट और डेबिट कार्ड की सावधानियां?

क्रेडिट और डेबिट कार्ड की सावधानियां

● कभी भी अपने किसी भी bank card PIN गलती से भी किसी को ना बताएं और बैंक आपसे कभी भी मैसेज करके या call करके आपके कार्ड के बारे में नहीं पूछता है।

● अपने कार्ड की सारी जानकारी ज़रूरी होती है, इसलिए कार्ड नंबर हो या expiry date किसी को ना बताएं और दुकानों में अपनी नज़रें अपने कार्ड पर से ना हटाएं।

● कभी भी ऑनलाइन अपने किसी भी कार्ड को स्टोर ना करें, अगर आपकी लॉग इन जानकारी हैकर को मिल गई तो आपके कार्ड की जानकारी भी उसके पास आ जाएगी और कभी कंपनी का पूरा डेटा चोरी हो सकता है, इसलिए ऑनलाइन कार्ड स्टोर मत करें।

● ऑनलाइन किसी भी ऐसी वेबसाइट पर न जाएं जिसपर HTTP है, हमेशा ऐसी वेबसाइट पर जाएं जो HTTPS है जैसे हमारी वेबसाइट पर है और तभी पेमेंट करने के बारे में सोचें।

● जब भी आप कोई चीज़ खरीदते हैं अपने कार्ड से, तो transactions होने के बाद receipts ज़रूर लें।

● किसी भी धुर के ATM पर जहाँ चौकीदार नहीं है, बहुत सुनसान जगह हो तो कोशिश करें कि उसका इस्तेमाल न करें, क्योंकि अक्सर हैकर कार्ड क्लोन बनाने के लिए इस तरह के ATM लोकेशन का इस्तेमाल करते हैं।

● महीने में एक बार या जब आपको time मिले तब आपको ATM PIN बदलते रहना चाहिए, इस तरह आपके साथ फ्रॉड होने के चांसेस कम हो जाते हैं। इन सावधानियों का ख़याल रखेंगे तो आप ऑनलाइन पेमेंट करते समय स्पैम और फ्रॉड से बच सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

ट्रान्सफर और Withdraw का मतलब?

कभी-कभी आपके बैंक खाते से पैसे निकलने पर ‘Debited’ की जगह ‘Transferred’ और ‘Withdrawn’ का इस्तेमाल भी होता है, लेकिन इन सभी का मतलब एक ही है – आपके बैंक खाते से पैसे गए हैं।

ATM और डेबिट कार्ड मे अंतर क्या है?

Debit Card के जरिए आप अपने savings या current account से पैसे निकालकर खर्च करते हैं, लेकिन क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल आप बैंक से एक तरह के ऋण के रूप में करते हैं और फिर समय पर उसे वापस करते हैं।

Credit in bank meaning in Hindi?

बैंक में ‘क्रेडिट’ का मतलब होता है पैसे जमा होना; अगर आप अपने बैंक खाते का स्टेटमेंट देखते हैं या बैंक से राशि ट्रांसफर होने पर मेसेज प्राप्त करते हैं, तो उसमें जब आपके खाते में ‘क्रेडिट’ है, तो उसका मतलब है कि पैसे जमा हो गए हैं।

डेबिट और क्रेडिट मीनिंग इन हिंदी?

हिंदी में ‘डेबिट’ का मतलब होता है ‘निकालना’, और ‘क्रेडिट’ का मतलब है ‘जमा करना’। बैंक में पैसे आने पर ‘क्रेडिटेड’ कहा जाता है, और पैसे निकाले जाने पर या ट्रांसफर किए जाने पर ‘डेबिटेड’ कहा जाता है।

डेबिट क्या होता है?

डेबिट का मतलब है हिंदी मे पैसों का निकालना होता है, डेबिटेड का मतलब है आपके अकाउंट से पैसे निकाले जाना।

Debit card kya hota hai?

बैंक अकाउंट बनाने के बाद आसानी से ATM मशीन से पैसे निकालने के लिए, इन्टरनेट बैंकिंग शुरू करने के लिए या ऑनलाइन किसी को पैसे भेजने के लिए डेबिट कार्ड की ज़रूरत पड़ती है, डेबिट कार्ड बैंकिंग सर्विसेज का फायदा उठाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। डेबिट कार्ड को आप अपने बैंक में फॉर्म भरके हासिल कर सकते है।

डेबिट क्रेडिट मीनिंग इन हिंदी?

डेबिट का मतलब है अकाउंट से पैसों का निकालना और क्रेडिट का मतलब है अकाउंट मे पैसो का जमा करना।

क्रेडिट का मतलब?

अगर आपके बैंक अकाउंट मे पैसे आते है तो इसे क्रेडिट कहते है, अगर कोई आपको पैसे भेजता है या आप अपने बैंक अकाउंट मे पैसे जमा करते है तो उसे क्रेडिटेड कहते है।

एटीएम और डेबिट कार्ड में क्या अंतर है?

एटीएम और डेबिट कार्ड मे कोई अंतर नहीं है पहले एटीएम मशीन मे इस्तेमाल किये जाने वाले कार्ड यानि डेबिट कार्ड को एटीएम कार्ड कहते थे और अब डेबिट कार्ड कहते है जिससे पैसे निकाले और डाले जाते है।

क्रेडिट और डेबिट का मेसेज कब अता है?

Debit यानि पैसे कटना, ये मेसेज तब अता है जब आपके bank account से पैसे निकाले जाते है, Credit का मतलब है जमा करना, ये message तब अता जब आपके bank account मे पैसे आते है। अब आपको पता चलगया होगा के credit और debit का मतलब क्या है और message कब अता है।

क्या मे क्रेडिट कार्ड से पैसे withdraw करसकता हूँ?

हाँ, बिलकुल credit card से पैसे withdraw किये जासकते है लेकिन ये पता करें के bank ये facility देता है या नहीं।

क्या मुझे क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करना चाहिए?

Credit card इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं ये आपके ऊपर है लेकिन आप credit card इस्तेमाल करना चाहते है तो बहुत हि ज़िम्मेदारी से इस्तेमाल करें, बहुत सारे लोग बिना ज़िम्मेदारी के इस्तेमाल करते है जिस कि वजह से उनपर कर्जा होता है अगर आपको Credit card कि बहुत ज़रूरत ना होतो बिलकुल मत लें।

१. क्रेडिट का हिंदी में क्या अर्थ होता है?

आसान भाषा मे Credit यानि जमा करना, आपको bank कि तरफ से credited का message अता है इसका मतलब है के आपके account मे successfully पैसे जमा हो गये है।

क्रेडिट कार्ड पर कितना ब्याज देना पड़ता है?

Credit card पर अकसर intrest 2.5% से 3.5% प्रति महिना होता है। हालाँकि ये आपके bank पर depend है के वह कितना ब्याज आपके credit card पर लेंगे।

क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं किया तो क्या होगा?

Credit card bill आपको समय से पहले भरना होता है, ये समय आपको अपने bank से पता चल जायेगा। अगर आप रेदित कार्ड बिल समय पर नहीं भरते है तो आपका credit score नीचे जाता है जिसकी वजह से आप अगली बार कोई भि loan या credit card लेने मे मुश्किल हो सक्ति है। हर credit card holder या loan लेने वाले का credit score होता है अगर आप सहीं समय पे पैसा चूकाते है तो credit score जियादा होगा जो सहीं का signal देता है लेकिन आप हर बार समय पर पैसे नहीं भरते है तो credit score कम होता है.

क्रेडिट कार्ड को हिंदी मे क्या कहते है?

Credit card को हिंदी उधार पत्रक कहते है, इस card को इस्तेमाल करने वालों को bank loan कि तरहा पैसे देती है इस शर्त पेक वह समय से पहले इसका भुगतान करेंगे।

क्रेडिट कार्ड में कितना बैलेंस है कैसे चेक करें?

क्रेडिट कार्ड मे कितना बैलेंस बाकि है ये जानने के लिए आप नजदीकी ATM मे insert करके, screen पे दिए गये instructions को follow करके balance देख सकते है।

क्या क्रेडिट कार्ड लोन लेना बुरा है?

कियोंकि credit card loan के intrest जियादा होता है आम personal loan के मुकाबले तो ये आपको विचार करना है और तय करना है के आप एक personal loan और credit card loan मे same amount मे कितना intrest देना होगा।

क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं?

Credit card के 7 प्रकार है:

Reward Credit Card
Business Credit Card
कम intrest वाले Credit Card
Travel Credit Card
Secured Credit Card
Student Credit Card
Cashback Credit Card.

क्रेडिट का मतलब क्या होता है बैंक में?

बैंक में क्रेडिट का मतलब होता है आपके पास पैसे जमा हुए है, बैंक से अगर आपको credited का मेसेज अता है तो आपके बैंक में पैसे जमा हुए है।

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड में अंतर?

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड में सबसे बड़ा अंतर ये है के हम क्रेडिट कार्ड से जितना भि खर्चा करते है वो सब एक लोन होता है यानि आपको इसे चुकाना होगा समय से पहले और साथ में इंटरेस्ट भि देना होगा। डेबिट कार्ड से जो भि खर्चा होता है तो आपके बैंक अकाउंट से होता है आपके बैंक में अमाउंट होगा तो आप उसे डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकते है।

निष्कर्ष

आशा है आपको इस सवाल ‘Debit and Credit meaning in hindi’ का जवाब मिलगया होगा, डेबिट और क्रेडिट मीनिंग इन हिंदी से जुड़ा कोई भि सवाल होतो बिना हिचके कमेंट मे पूछे हम जल्द आपका जवाब देनी कि कोशिश करेंगे. दूसरों को भि शेयर करें ताके उन्हें भि पता चले के क्रेडिट और डेबिट का मतलब क्या है.

4.2/5 - (16 votes)

Leave a Comment