Resume kya hota hai और Resume kaise banaye: Professional गाइड

4.4/5 - (9 votes)

रिज्यूम क्या होता है?

आज हम जानने वाले है के Resume kya hota hai, रिज्यूम का मतलब क्या होता है, रिज्यूम के प्रकार कितने है, टार्गेटेड रिज्यूम क्या होता है, खरोनोलॉजिकल रिज्यूम क्या होता है, रिज्यूम के भाग कीतेने है,

रिज्यूम क्यूँ ज़रूरी है, रिज्यूम कैसे बनाया जाता है, रिज्यूम कहा और कैसे भेजा जाता है, रिज्यूम और बायोडाटा मे क्या फर्क होता है, आदि इन सारे सवालों के जवाब जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़े, चलिए देखते है रिज्यूम क्या होता है.

रिज्यूम जॉब के लिए ज़रूरी डॉक्यूमेंट होता है, रिज्यूम यानि अयसा डॉक्यूमेंट जो कैंडिडेट तैयार करता है अपने क्वालिफिकेशन के आधार पर किसी पोजीशन को पाने के लिए, इसमें कैंडिडेट के अनुभव के बारेमे जानकारी होती है, कैंडिडेट कि पढ़ाई और स्किल जैसी इनफार्मेशन और इससे जुडी दूसरी इनफार्मेशन होती है.

आपको बतादू के रिज्यूम और सीवी (curriculum vitae) ये दो अलग चिज है, सीवी मे कैंडिडेट का सारा एक्सपीरियंस होता है, एजुकेशन, स्किल और इससे जुडी सारि जानकारी होती और इसमें डॉक्यूमेंट कितना भि लम्बा होसकता है,

वहीँ पर रिज्यूम को बनाने का मकसद ये होता है के आसान तरीके से क्लियर लिखा हुआ हो जिसे आसानी से पढ़ा जाये,

रिज्यूम को हर जॉब कि पोजीशन के लिए बदला या चेंज किया जासकता है, रिज्यूम के डॉक्यूमेंट एक से दो पेज के हि होने चाहिए इससे जियादा नहीं होना चाहिए, सामने वाले को कनविन्स करने के लिए के आप जॉब के लिए सहीं है इसलिए रिज्यूम बनाया जाता है.

अगर आप किसी जॉब के लिए अप्लाई करना चाहते है तो कम से कम आपके पास रिज्यूम होना चाहिए, अगर करियर दस साल से कम है तो एक पेज मे रिज्यूम लिखना चाहिए अगर करियर बहोत बड़ा है तो दो पेज मे लिख सकते है,

रिज्यूम के पांच भाग होते है जैसे पहले कांटेक्ट डिटेल्स, इंट्रोडक्शन, एजुकेशन बैकग्राउंड, वर्क हिस्ट्री और रिलेवेंट स्किलस, अब आपको पता चलगया होगा के रिज्यूम क्या होता है.

मोबाइल मे Resume kaise banaye?

रिज्यूम क्या होता है

Step1: मोबाइल पर रिज्यूम बनाने के लिए एप्लीकेशन के नाम, रिज्यूम बिल्डर 2020, सीवी मेकररिज्यूम बिल्डर, रिज्यूम पीडीएफ मेकर.

Step2: मोबाइल मे रिज्यूम बनाने के लिए आप एमएस वर्ड के अलावा दुसरे रिज्यूम बिल्डर ऐप्प से रिज्यूम बना सकते है,

Step3: ऐप्प डाउनलोड करने के बाद सारि जानकारी ध्यान से डालें और सेव करे और डाउनलोड करे.

Computer मे resume kaise banaye?

कंप्यूटर मे रिज्यूम बनाने के लिए एमएस वर्ड का इस्तेमाल किया जाता है,

Step1: पहले जो भि रिज्यूम मे लिखना है उसे एक तरफ करले यानि जानकारी जमा करलें.

Step2: एमएस वर्ड को ओपन करे और लिखना शुरू करे.

Step3: फोटो भि ऐड करे.

Step4: अगर अनुभव तो उसके बारेमे लिखे अगर नहीं है तो नहीं है लिखे.

Step5: इसके बाद आपको अपने एजुकेशन सेक्शन मे सहीं से जानकारी भरनी है अपने मार्कशीट के आधार पे और अपने होब्बी के बारेमे भि लिखे.

Step6: अच्छी तरीके से लिखने के बाद और फोर्मटिंग करने के बाद, दोबारा एक बार चेक करे और सेव करके डॉक्यूमेंट को पीडीएफ फॉर्मेट मे डाउनलोड करे.

रिज्यूम क्यूँ बनाया जाता है?

रिज्यूम का मकसद होता है के एम्प्लायर को कनविन्स करसके के आप जॉब के लिए फिट है और आपको इंटरव्यू के लिए सेलेक्ट करे, रिज्यूम मे कैंडिडेट का करियर का पूरा इसतिहास नहीं होता है, रिज्यूम को कैंडिडेट का विज्ञापन डॉक्यूमेंट समज सकते है,

कम जगह मे जॉब के रिलेटेड एक्सपीरियंस और स्किल के बारेमे बताना होता है और आप किस्मे सबसे जियादा मजबूत है ये बताना होता है,

रिज्यूम किसी जॉब के लिए अप्लाई करने के लिए बहुत काम अता है और अगर आपको किसी यूनिवर्सिटी मे एडमिशन लेना है तो आपको रिज्यूम कि ज़रूरत होती है ख़ास करके बाहेर देश के यूनिवर्सिटी मे सबसे पहले रिज्यूम मांगे जाते है, इसके अलावा भि कई सारे जगह रिज्यूम काम अता है.

Resume / Biodata / CV

Resume

रिज्यूम को बायोडाटा भि कहते है, रिज्यूम जॉब के लिए अप्लाई करने के लिए इस्तेमाल होता है इसमें कैंडिडेट के प्रोफेशन के बारेमे मे आसान और छोटी समरी होती जैसे एजुकेशन, एक्सपीरियंस, स्किल, आदि, रिज्यूम को अक्सर एक या दो पेज मे लिखा जाता है.

Biodata

बायोडाटा कैंडिडेट के प्रोफेशन लाइफ पर भि होता है जिसे अक्सर गवर्नमेंट से जुड़े जॉब को पाने के लिए बनाया जाता है और बायोडाटा को पर्सनल लाइफ कि जानकारी देने के लिए भि बने जाता है जैसे शादी के लिए. ये भि एक या दो पेज के होता है.

CV

यूएस मे रिज्यूम को सीवी कहते है लेकिन यूएस के बाहर सीवी यानि अयसे डॉक्यूमेंट जो कैंडिडेट के प्रोफेशन के बारेमे मे डिटेल जानकारी देता हो, सीवी को अक्सर चार पेज मे लिखा जाता है कभी कम ज़ियदा भि होते है.

रिज्यूम मे क्या होता है?

कांटेक्ट डिटेल– कांटेक्ट डिटेल सेक्शन मे आप अपना पूरा नाम, फोन नंबर, ईमेल एड्रेस लिंकेदीन प्रोफाइल के साथ अपना शहर का नाम भि लिख सकता है अगर आपको बताना है के आप कंपनी के नज़दीक रहते है, यहा मेल एड्रेस देना ज़रूरी नहीं है.

इंट्रोडक्शन– अपने प्रोफेशनल बैकग्राउंड के बारेमे और ज़रूरी क्वालिफिकेशन बताना होता है इसमें आपके रिज्यूम कि समरी होनी चाहिए.

एजुकेशन– एजुकेशन सेक्शन मे आपके स्कूल का नाम और अपनी हाईएस्ट डिग्री कि जानकारी देनी होगी, इसके अलावा आप अपना गीपीए दाल सकते है अगर 3.8 से जियादा है तो और वर्ककोर्स के बारेमे भि बता सकते है अगर एक्सपीरियंस कम है तो.

एक्सपीरियंस– यहा पर आपको अपने जॉब के रिलेटेड अपने एक्सपीरियंस के बारेमे लिखना है जैसे कंपनी का नाम, आपकी पोजीशन, कितने साल काम किया और आपकी ज़िम्मेदारी किया थी.

स्किल– अपनी जॉब के रिलेटेड स्किल के बारेमे है इसमें हार्ड और सॉफ्ट दोनों स्किल बताये ताके उन्हें पता हो के आप वेल राउंडेड कैंडिडेट है.

रिज्यूम के प्रकार?

रिज्यूम क्या होता है- Resume kya hota hai

रिज्यूम सिर्फ एकहि तरह से नहीं लिखा जाता है इसके बहुत सारे लिखने के तरीके है, अलग फॉर्मेट, प्रकार है और हर फॉर्मेट मे अलग सेक्शन होते है,

अपने प्रोफेशन, हिस्ट्री, स्किल और क्वालिफिकेशन के हिसाब से आपके लिए कौनसा फॉर्मेट ठीक रहेगा चलिए देखते है, रिज्यूम के प्रमुख चार प्रकार है:

  • Chronological Resume
  • Functional Resume
  • Targeted Resume
  • Combination Resume

1. Chronological Resume

आजकल कैंडिडेट के दुअरा सबसे जियादा इस फॉर्मेट का इस्तेमाल किया जारहा है, खरोनोलॉजिकल रिज्यूम मे सबसे प्पेहले इंट्रोडक्शन होता है उसके बाद कैंडिडेट कि प्रोफेशनल हिस्ट्री होती है, ये फॉर्मेट उनके लिए सूटेबल है जिनके अलग अलग एक्सपीरियंस लेवल है.  

2. Functional Resume

ये फॉर्मेट आपके एबिलिटी और स्किल पर जियादा फोकस करता है नाकि आपके करियर पर, ये फॉर्मेट उनके लिए सूटेबल है जो करियर बदलना चाहते है और अपने वर्क एक्सपीरियंस को बताना नहीं छाते, इस फॉर्मेट मे स्किल के बारेमे सारि जानकारी डी जाती है और अपने अनुभव का छोटा सेक्शन होता है.

3. Targeted Resume

जैसे इसका नाम है आप जिस पोस्ट के लिए अप्लाई करना चाहते है ये फॉर्मेट उसे टारगेट करता है यानि इसमें इस पोजीशन के रिलेटेड स्किल और एक्सपीरियंस को दिखाते है,

उधारण के लिए मेनेजर कि पोस्ट के लिए इसमें सहीं स्किल और ज़िम्मेदारियाँ बता सकते है जो आप करना छाते है, इस फॉर्मेट मे आपकी क्वालिटिस हाईलाइट होती है.  

4. Combination Resume

फंक्शनल रिज्यूम रिज्यूम और खरोनोलॉजिकल रिज्यूम को मिक्स करने पर कॉम्बिनेशन रिज्यूम बनता है, यानि कैंडिडेट कि स्किल एबिलिटी और हिस्ट्री दोनों को एक बराबर लिखा जाता है कैंडिडेट कि क्वालिफिकेशन बताने के लिए,

ये फॉर्मेट उन कैंडिडेटस के लिए सूटेबल है जिनके पास अच्चा एक्सपीरियंस हो और अच्छी स्किल्स भि.   

रिज्यूम के भाग?

एक नार्मल रिज्यूम मे इन चीजों का होना ज़रूरी है, इसे आप रिज्यूम का स्ट्रक्चर भि केहसकते है:

  • कांटेक्ट इन्फो और पर्सनल डिटेल
  • रिज्यूम इंट्रोडक्शन
  • करियर ऑब्जेक्टिव
  • एजुकेशनल सेक्शन
  • स्किल्स, हार्ड/सॉफ्ट स्किल्स
  • वर्क एक्सपीरियंसेस
  • एडिशनल सेक्शन
  • सर्टिफिकेशन, अवार्ड और हॉनरस.

Resume बनाने के लिए टिप्स?

  • अगर कोई स्टूडेंट है और पढाई कररहा है तो वह इंटर्नशिप भि करे ताके पढाई के बाद जॉब आसानी से मिले.
  • कभी भि रिज्यूम कॉपी नाकारे सामने वाला आपसे जियादा होशियार है.
  • जियादा शोर्ट फॉर्म का इस्तेमाल नाकरे और लिखने मे बुलेट फॉर्म का इस्तेमाल करे, रिज्यूम को बोरिंग मतबनाये.
  • जहा अप्लाई कररहे है उस कंपनी और जॉब के बारेमे मे जानकारी हासिल करे.
  • अपने सारे रिज्यूम को कोशिश करे के एक पेज मे आजाये.

किन Websites से रिज्यूम बनाएं?

इन वेबसाइट कि मदद से फ्री मे रिज्यूम बना सकते है:

  • हाउ तु राईट ए रिज्यूम (Howtowriteresume)
  • कैनवा (Canva)
  • सीवी मेकर- फ्री रिज्यूम मेकर
  • नोवोरिज्यूम- रिज्यूम
  • ऑनलाइन सीवी- ऑनलाइन रिज्यूम मेकर

People Also Ask

  1. 1. क्या जॉब के लिए रिज्यूम ज़रूरी है?

    किसी पोजीशन के लिए भर्ती करने के प्रोसेस मे रिज्यूम एक ज़रूरी भाग है, दुसरे डॉक्यूमेंट से पहले मेनेजर कैंडिडेट का रिज्यूम देखते है इसलिए रिज्यूम का होना और अच्छे से फॉर्मेट करना ज़रूरी है, ताके एम्प्लायर को पता चले के कैंडिडेट कि क्वालिफिकेशन क्या है, एक्सपीरियंस है के नहीं, स्किल्स कौनसी है, आदि. रिज्यूम कैंडिडेट के करियर का समरी होता है.  

  2. 2. रिज्यूम कैसे भेजे?

    पहले रिज्यूम को ऑफलाइन जाकर दिया जाता था लेकिन आजकल ऑनलाइन ईमेल के दुअरा भेजा जाता है, कंपनी के ईमेल अद्द्रेस पर अपना ईमेल लिखकर और पीडीएफ फाइल के साथ भेजना होता है.

3. रिज्यूम का मतलब क्या होता है?

रिज्यूमे को रेसूम भि पढ़ा जाता है, रिज्यूम फ्रेंच वर्ड है जिसका मतलब है Summary और रिज्यूम भि आपके करियर और क्वालिफिकेशन का सम्मरी हि होता है, आजकल फ्रेंच लोग इसके बदले सिवी शब्द का इस्तेमाल कररहे है.  

निष्कर्ष?

आज हमने जाना के Resume kya hota hai, रिज्यूम क्हैया है, रिज्यूम के प्रकार कितने है, कॉम्बिनेशन रिज्यूम क्या होता है, टार्गेटेड रिज्यूम क्या होता है, रिज्यूम क्यूँ ज़रूरी है, Resume kaise banaye, रिज्यूम कहा और कैसे भेजा जाता है, रिज्यूम और बायोडाटा मे क्या फर्क होता है, आदि.

आशा है आपको इस सवाल ‘Resume kya hai’ का जवाब मिलगया होगा, Resume kya hai इससे जुड़ा कोई सवाल होतो कमेंट करें और शेयर भि करे ताके दूसरों को भि पता चले के रिज्यूम क्या होता है, हमारा ये आर्टिकल “What is resume in hindi” यहीं समाप्त होता है.

ये आर्टिकल भि पढ़े:

3 thoughts on “Resume kya hota hai और Resume kaise banaye: Professional गाइड”

Leave a Comment