7 Steps 12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने । DSP Kaise Bane

हर कोई ज़िन्दगी मे अच्छी नौकरी पाना चाहता है सरकारी नौकरी पाना चाहता है, क्या आप dsp kaise bane जानना चाहते है. इसलिए आज हम 12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने बताएँगे, DSP यानि ‘Deputy Superintendent of Police’ नाम से हि पता चलगया होगा कि इस अधिकारी को SP यानि ‘Superintendent of Police’ को assist करना होता है,

आज हम जानेंगे के dsp kaise bane, 12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने, ग्रेजुएशन के बाद dsp kaise bane, डीएसपी बनने के लिए योग्यताएं, UPSC exam, इंटरव्यू, सैलरी, प्रमोशन और आखिर मे एग्जाम कि तय्यारी के लिए कुछ ज़रूरी टिप भी बतायेंगे, इसलिए आर्टिकल को आखिर तक ज़रुरु पढ़े.

डीएसपी किसे कहते है?

DSP Kaise Bane

पुलिस डिपार्टमेंट मे बहुत सारे अलग अलग posts होते है उनमे से एक है DSP भी है जो पुलिस डिपार्टमेंट मे एक उचा पद है, DSP स्टेट के पुलिस फोर्स को आदेश दे सकते है,

DSP कभी भि और कहीं भि अपने राज्य मे सरप्राइज निरिक्षण करसकते है, DSP को हिंदी मे उप पुलिस अधीक्षक कहते है, DSP के पास बहुत सारे ज़रूरी अधिकार होते है, अपने छेत्र मे शांति बनाये रखना DSP का काम होता है, छोटे बड़े क्राइम को कण्ट्रोल करना और रोकना ये भि डीएसपी का काम होता है,

SP के ना होने पर DSP को हि सारे काम और कर्तव्यों को देखना होता है, DSP के पास बहुत सारे शक्तियां होती है इसलिए बहुत सारे छात्र डीएसपी बनना चाहते है.

डीएसपी कैसे बने । DSP Kaise Bane

  • शिक्षा: सबसे पहले, आपको किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त करनी होगी। यह डिग्री किसी भी क्षेत्र में हो सकती है, लेकिन आमतौर पर लोग एक संबंधित क्षेत्र में जैसे कि कानून, सामाजिक विज्ञान, या पुलिस प्रशासन की डिग्री पर जाते हैं।
  • UPSC का आवेदन करें: डीएसपी बनने के लिए, आपको संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के द्वारा आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Examination) के लिए आवेदन करना होगा।
  • सिविल सेवा परीक्षा (सीएसई) दें: सीएसई तीन चरणों में होती है – प्रिलिम्स, मेन्स, और साक्षात्कार। आपको प्रिलिम्स पास करने के बाद मेन्स परीक्षा देनी होगी और फिर साक्षात्कार में सफलता प्राप्त करनी होगी।
  • प्रशासनिक प्रशिक्षण: सीएसई सफलतापूर्वक पास करने के बाद, आपको भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के तहत प्रशासनिक प्रशिक्षण प्राप्त करना होगा।
  • पोस्टिंग: प्रशासनिक प्रशिक्षण के बाद, आपको एक डीएसपी के पद पर पोस्ट किया जाएगा। आपका कार्यक्षेत्र और जगह आपकी नौकरी की परियोजना द्वारा निर्धारित किया जाएगा।
  • करियर की वृद्धि: आपके पैसे में वृद्धि करने के लिए, आपको अच्छे प्रदर्शन करना होगा और पुलिस विभाग के अन्य पदों के लिए आवेदन करना हो सकता है।
  • योग्यता बनाएं: आपको नौकरी के दौरान अपनी योग्यता और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देना होगा ताकि आप उच्च पदों में पदोन्नत हो सकें।

12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने?

12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने । DSP Kaise Bane

स्टेप1: सबसे पहले कैंडिडेट को 10वीं और 12वीं कि पढाई पूरी करनी होगी किसी भि स्ट्रीम से.

स्टेप2: इसके बाद कैंडिडेट को किसी भि स्ट्रीम से ग्रेजुएशन कि पढाई करनी होती है तभि कैंडिडेट UPSC एग्जाम के लिए अप्लाई करसकते है.

स्टेप3: UPSC एक बड़ा organization है जो पुरे देश मे उचे पदों के लिए सहीं कैंडिडेट सेलेक्ट करने के लिए एग्जाम करवाता है.

स्टेप4: UPSC एग्जाम अप्लाई करने के लिए UPSC के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा अगर DSP कि Requirment होगी तो अप्लाई करने के लिए फॉर्म होगा बस उसे सहीं से पढ़कर फिल करना होता है.

स्टेप5: UPSC exam को क्लियर करने के लिए कैंडिडेट मे कुछ ज़रूरी योग्यता होनी चाहिए अगर एक भि नहीं होगी तो फॉर्म रिजेक्ट हो जायेगा और एग्जाम नहीं दे सकते है.

स्टेप6: ग्रेजुएशन होना चाहिए, फिजिकल टेस्ट होगा जिसके बारेमे आगे detail मे बताया जयेगा है.

स्टेप7: एग्जाम के तीन भाग है Prelims, Mains और इंटरव्यू इन तीनो को सफलता पूर्वक clear करने पर DSP बनसकते है. अब आपको पता चलगया होगा के DSP Kaise bane अब योग्यता जानें.

डीएसपी बनने के लिए योग्यताएं?

UPSC एग्जाम क्लियर करने के लिए हर कैंडिडेट मे ये चीजें होनि ज़रूरी है:

क्वालिफिकेशन

जैसा के हमने पहले हि कहा था के एग्जाम मे वो कैंडिडेट अप्लाई करसकता है जिसके पास ग्रेजुएशन कम्पलीट हो, ग्रेजुएशन होने के बाद या आखरी सेमेस्टर मे हो तो कैंडिडेट UPSC exam के लिए अप्लाई करने के योग्य माने जाते है.

उम्र

बहुत सारे कैंडिडेट को पता हि नहीं होता उम्र के बारेमे और अप्लाई करदेते है फिर फॉर्म रिजेक्ट होजाता है इसलिए पूरी जानकारी होना ज़रूरी है,

  • कैंडिडेट कि उम्र कम से कम 21 वर्ष होनी चाहिए और जियादा से जियादा 30 वर्ष होनी चाहिए,
  • OBC वर्ग के कैंडिडेट के लिए उम्र मे तीन साल कि छुट दी गयी है,
  • SC/ST वर्ग के कैंडिडेट के लिए उम्र मे पांच साल कि छुट डी गयी है.

DSP फिजिकल टेस्ट

 DSP Kaise Bane

उचे पदों के अधिकारीयों के लिए फिजिकल टेस्ट मे कुछ चीज़े निरधारित कि गयी है जैसे hight, chest. पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग अलग नियम है,

  • पुरुष कैंडिडेट कि हाइट 168 सेंटीमीटर होनी चाहिए और इससे जियादा भि हो सक्ति है.
  • महिला कैंडिडेट कि हाइट 155 सेंटीमीटर होनी चाहिए और इससे जियादा भि हो सक्ति है, कैंडिडेट का वजन उसकी height के हिसाब से तय कि जाती है.
  • पुरुषों का chest 84 सेंटीमीटर होना चाहिए और महिलाओं के लिए कोई भि निरधारित नियम नहीं है.

UPSC एग्जाम क्या है?

UPSC एक निष्पक्ष संस्थान है जिसे हमारे देश के संविधान से सीधे शक्तियां प्राप्त है, UPSC देश भरमे बहुत सारे सरकारी सेवाओं के पदों को भर्ती करने के लिए एग्जाम तैयार करता है, Grade ‘A’ और Grade ‘B’ के अधिकारीयों के लिए exam आयोजित करते है, सर्विसेज जैसे IPS, IAS, IRF. आदि.

UPSC का फुल फॉर्म है ‘Union Public Servcie Commission’ DSP बनने के लिए UPSC का टेस्ट सिविल सर्विस एग्जाम देना होता है, एग्जाम के तीन भाग है पहला प्रेमिलिनारी टेस्ट, दूसरा Mains और तीसरा है इंटरव्यू.

  1. प्रेमिलिनारी
  2. मैन्स
  3. इंटरव्यू

प्रिमिलानारी टेस्ट

  • UPSC के दुअरा आयोजित किया जाने वाला स्टेट सिविल सर्विस का पहला भाग यानि प्रिमिलानारी टेस्ट होता है.
  • ये सिर्फ इसलिए लिया जाता है ताके mains एग्जाम को वो हि कैंडिडेट देसके जो योग्य हो, कियोंकि प्रिमिलानारी टेस्ट क्लियर करे बिना mains एग्जाम नहीं दे सकते है.
  • प्रिमिलानारी मे आमतौर पर दो पेपर होते है, जो जनरल स्टडीज पर होते है.

मैन्स एग्जाम

  • प्रिमिलानारी एग्जाम के बाद मैन्स एग्जाम क्लियर करना होता है, अक्सर कैंडिडेट इस एग्जाम को क्लियर कर नहीं पाते कियोंकि ये थोडा मुश्किल एग्जाम होता है.
  • इंग्लिश और हिंदी लैंग्वेज के विषयों पर सवाल पूछे जाते है, जनरल स्टडीज के पेपर भि होते है, निबंध 200 marks का होता है.
  • इसके लिए मैन्स एग्जाम क्लियर करना ज़रूरी है इसके बादहि कैंडिडेट को इंटरव्यू के लिए बुलाया जायेगा.

Optional को छोड़कर कुल 7 exam Mains मे होते है:

  1. फिलोसोफी
  2. इतिहास
  3. इकनोमिक
  4. लॉ
  5. मेडिकल साइंस
  6. जियोलॉजी
  7. मठेमटिक
  8. इलेक्ट्रिकल इंजिनियर
  9. जियोग्राफी.

इंटरव्यू

प्रेमिलानारी टेस्ट और मैन्स एग्जाम को क्लियर करने के बाद कैंडिडेट को इंटरव्यू के लिए बुलाया जायेगा, यहाँ कैंडिडेट के सामने कुछ अधिकारी होते है सवाल पूछने के लिए, वो कैंडिडेट कि मेंटल एबिलिटी को टेस्ट करने कि कोशिश करते है और ये जानने कि कोशिश करते है के क्या कैंडिडेट पोस्ट के लिए योग्य है या नहीं.

इंटरव्यू मे कैंडिडेट से टेक्निकल और लॉजिक वाले सवाल पूछे जाते है, एग्जाम का आखरी भाग इंटरव्यू मे सफल होने के बाद कैंडिडेट को ट्रेनिंग दि जाती है, इंटरव्यू क्लियर करने के बाद ट्रेनिंग के बाद कैंडिडेट कि पोस्टिंग होती है कहीं भि, तब जाके एक कैंडिडेट DSP कहलाता है.

डीएसपी की ट्रेडिंग

कैंडिडेट का सबसे आखरी काम है DSP बनने के लिए ट्रेनिंग, इंटरव्यू के बाद ट्रेनिंग के लिए कैंडिडेट को LABSNAA जिसका भेजा जाता है जिसका फुल फॉर्म है ‘Lal Bahadur Shastri National Academy of Administration’

यहाँ कैंडिडेट को कुछ वक़्त तक ट्रेनिंग दि जाती है, ट्रेनिंग मिलने के बाद कैंडिडेट को एक डीएसपी के तौरपर पोस्टिंग होती है, सैलरी के अलावा डीएसपी को और दुसरे सुविधाएँ भि मिलती है.

डीएसपी के काम

12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने

  • डीएसपी एक division को कण्ट्रोल करता है, उसके अंतर्गत आने वाले सभि पुलिस स्टेशन कि जानकारी रखनी होती है, 2-3 पुलिस चौकी अति है डीएसपी के छेत्र मे.
  • पुलिस चौकियों के आसपास होने वाले सभि क्राइम कि जानकारी डीएसपी  को दि जाती है ताके उस क्राइम को कण्ट्रोल मे करने के लिए डीएसपी कोई कदम उठाये या आदेश निकाले.
  • पुलिस स्टेशन के ऑफिसर या इंस्पेक्टर के दुअरा किसी भि क्राइम को लेकर जाँच हो रही है या नहीं ये देखने, अगर हो रही है तो क्या निष्पक्ष हो रही है ये जानना डीएसपी का काम है.
  • डीएसपी ये भि काम होता है के हर दुसरे दिन पुलिस स्टेशन मे night round लगाना और अचानक छापेमारी करना पुलिस स्टेशन मे.
  • डीएसपी कि ये ज़िम्मेदारी है के पुलिस चौकी मे FIR दर्ज कि जारही है या नहीं सभ पुलिस अपना काम सहीं से कररहे है या नहीं, छेत्र मे जुर्म को रोकने के लिए प्रयास करना ये डीएसपी कि सबसे पहली ज़िम्मेदारी है.
  • कोई भि क्राइम होने के बाद उस जगह के पुलिस कोर्स के साथ मिलकर डीएसपी को ये ज़िम्मेदारी लेनी होती है के निष्पक्ष तरीके से इन्वेस्टीगेशन हो.
  • जब कहीं फायरिंग कि नौबत आति है तब पुलिस फाॅर्स कि क्या तय्यारी होगी कैसे होगी, क्या प्लान होगा, कैसे आगे बढ़ेंगे सभ डीएसपी कि ज़िम्मेदारी होती है.
  • एसपि के अंडर मे डीएसपी को काम करना होता है, सभि सुचना एसपि को देनी होती है फिर एसपि के आदेश से आगे के काम होते है.

डीएसपी की सैलरी

DSP kaise bane इसके बाद अब सैलरी के बारेमे जाने, UPSC exam देने के बाद जब कोई DSP बनता है तो उसकी शुरुवाती सैलरी 9,300 रुपे मिलती है फिर अनुभव हासिल करने के बाद डीएसपी को 34,800 रुपे सैलरी मिलती है, सैलरी के साथ डीएसपी को grade pay 5,400 रुपे मिलता है.

प्रमोशन

DSP बनने के बाद SP कि पोस्ट मिलती है यानि ‘Superintendent of Police’, फिर SSP ‘Senior Superintendent of Police’, फिर DIG ‘Deputy Inspector General of Police’

फिर IGP ‘Inspector General of Police’, फिर ADGP ‘Additional Director General of Police’, फिर DGP ‘Director General of Police’, ये थे कुछ ज़रूरी पद जो DSP बनने के बाद promotion होने पर मिल सकते है.

डीएसपी बनने के फायदे

सैलरी के साथ साथ एक डीएसपी को अन्य कई सुविधाएँ मिलती है जैसे:

  • डीएसपी कि पोस्टिंग कहीं भि होती है इसलिए पोस्टिंग के अनुसार छेत्र मे डीएसपी को रहने के लिए बंगलो/घर दिया जाता है.
  • डीएसपी कि सिक्यूरिटी के लिए सरकार कि तरफ से अधिकारी और घर के लिए भि कर्मचारी होते है.
  • डीएसपी को आने जाने के लिए सरकार कि तरफ से गाड़ी भि मिलती है उसके साथ एक ड्राईवर भि होता है.
  • डीएसपी कि फ्री बिजली होती है और टेलीफ़ोन कनेक्शन भि फ्री होता है ये सभ सरकार कि तरफ से मिलता है.
  • रिटायरमेंट के बाद डीएसपी को पेंशन भि मिलती है.
  • इनसभ के साह डीएसपी कि पोस्ट से समाज मे बहुत सम्मान मिलता है, ये एक बहुत ज़िम्मेदी कि पोस्ट है, ये पोस्ट उसी को मिलती है जो योग्य है.

डीएसपी एग्जाम के लिए तय्यारी कैसे करे?

डीएसपी कैसे बने

  • डीएसपी बनने के लिए कुछ ज़रूरी टिप्स, एग्जाम क्लियर करने के लिए पिछले सालों के कोशन पेपर को प्रैक्टिस करे सोल्व करे, ये आपको इन्टरनेट पर या उन स्टूडेंट के पास मिलेंगे जो एग्जाम क्लियर कर्चुके है, इससे एग्जाम मे सवाल कैसे आते है ये पता चलता है.
  • कुछ स्टूडेंट को कोचिंग क्लासेज कि ज़रूरत नहीं होती और कुछ स्टूडेंट को होती है, इसलिए स्टूडेंट कोस्चिंग इच्लास्सेस भि लेसकते है और अपने वीक विषयों पर काम करसकते है.
  • जैसा कि हमने बताया है के फिजिकल टेस्ट होंगे कैंडिडेट के तो उसके लिए कैंडिडेट को महीनो पहले से तय्यारी शुतु करनी चाहिए.
  • अपने जनरल नॉलेज को बढ़ाये और जनरल स्टडीज पर ध्यान दें,जो यूपीएससी के एग्जाम को क्लियर कर चुके है वो लोग कहते है के कैंडिडेट को हर रोज़ इंग्लिश और हिंदी लैंग्वेज मे अख़बार पढना चाहिए.
  • यूपीएससी एक नेशनल लेवल का एग्जाम है, यहाँ कम्पटीशन बहुत होगा इसलिए आपमें हिम्मत और ना हारने का जज्बा होना चाहिए.
  • आपको पता होना चाहिए कि आप क्या कररहे है और कैसे करना चाहिए, अपने आपको हमेशा मोटिवेटेड रखे किसी भि चीज़से, पना लक्ष सिर्फ एक रखे डीएसपी से जुड़े सारि जानकारी हासिल करे.
  • सबर के साथ मेहनत, आप जो भि कररहे है उसमे आपको मज़ा आना चाहिए या उसमे आपका इंटरेस्ट होना चाहिए अगर इंटरेस्ट नहीं है तो उसे पैदा करो याफिर उस चीज़ मे आगे बढ़ो जिस चीज़ मे आपका इंटरेस्ट हो.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1. डीएसपी फुलफॉर्म?

डीएसपी का फुलफॉर्म है ‘Deputy Sperintendent Of Police’.

2. डीएसपी को प्रमोशन मिलने पर कौनसी पोस्ट मिलती है?

डीएसपी को प्रमोशन मिलने पर एसपी कि पोस्ट मिलती है यानि ‘Superintendent of Police’.

3. डीएसपी कि पॉवर क्या होती है?

डीएसपी के पास ये पॉवर होती है के वो राज्य के पुलिस फोर्स को आर्डर दे सकता है, उसके अंडर मे अति है पुलिस फोर्स, डीएसपी के पास और भि बहुत सारे कामहोते है, हमने ऊपर डिटेल मे बताया है कि डीएसपी के काम और ज़िम्मेदारियाँ क्या होती है.

4. एसपी और डीएसपी मे क्या फर्क है?

डीएसपी यानि ‘डेपुटी सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस’, ये पद पुलिस फोर्स मे एक उचा पद है और बहुत जिम्मेदारियों से भरा है, डीएसपी को एसपी को छेत्र के क्राइम के बारेमे सुचना देना होता है फिर जो एसपी कहते है वो उन्हें फॉलो करना होता है,

एसपी यानि ‘सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस’ ये एक बहुत बड़ा पद है जो डीआईजी, आईजीपी जैसे पदों कि रेंज का होता है, एसपी का काम होता है के छेत्र मे लॉ एंड आर्डर बनाये और क्राइम पर कंट्रोल करना, इन्वेस्टीगेशन करवाना, आदि. एसपी का पद डीएसपी से बड़ा होता है.

5. जिले मे सबसे प्रमुख पुलिस पोस्ट कौनसी है?

एसपी ‘सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस’ और डीएसपी ‘डेपुटी सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस’, ये दोनों पोस्ट जिले के सबसे प्रभावी पुलिस पोस्ट होती है कियोंकि इन्ही के पास पुलिस फोर्स कि कंट्रोलिंग रहती है.

6. दिल्ली पुलिस मे डीएसपी कैसे बने?

दिल्ली पुलिस मे डीएसपीबनने के लिए स्टेट सिविल सर्विस कमीशन एग्जाम देना होगा.

7. दिल्ली मे डीएसपी कि सैलरी कितनी होती है?

78,000 से 96,000 रुपे एवरेज सैलरी प्रति महिना मिलती है सैलरी डीएसपी कि ड्यूटी टाइमिंग और किस छेत्र मे है इसपर निर्भर है.

निष्कर्ष

डीएसपी एक बहुत अच्छी पोस्ट है सम्मान्य पोस्ट है, जिसमे सैलरी भि अच्छी है और दूसरी सरकारी सुविधाएँ भि मिलती है, इस पोस्ट के लिए कैंडिडेट को खूब पढाई करनी होगी मेहनत और लगन से,

यूपीएससी एग्जाम क्लियर करना आसान नहीं है और नाहि इम्पॉसिबल है, आज हमने देखा के DSP kaise bane,12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने, DSP kaise bane puri jaankari, आशा है के आपको इस सवाल ‘डीएसपी कैसे बने’ के बारेमे पूरी जानकारी मिल्ग्यो होगी, अगर और भी कुछ पूछना होतो कमेंट ज़रूर करे,

अपने दोस्त या परिवार को शेयर करे ताके उन्हें भि तो पता चले के 12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने, हमारा ये आर्टिकल ‘DSP kaise bane’ यहीं समाप्त होता है.

4.2/5 - (19 votes)

5 thoughts on “7 Steps 12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने । DSP Kaise Bane”

  1. This article tell us if someone has ability to work hard honestly and consistently with proper time management skills will ultimately hit the target and taste the salt of success

    Reply
  2. Your article is very helpful to me, I will bookmark your website so that I can read it better in the future.

    Reply

Leave a Comment